Unacquainted Silhouettes

Advertisements
कुछ बेदर्दी का अफसाना ज़माना फुसफुसाता चला गया
कुछ तनहा रातों की शिकायतें बढ़ती चली गयी 
 
 
मेरी खुश किस्मती थी, जो हवा के झोके से
तेरी खुशबू मेरी रूह से आ टकराई 
 
 
यूँ तुझमे खुद ही को फना करके,
मैं ज़माने को ग़ज़ल-ए-इबादात बना चला !
Advertisements

Advertisements